CATEGORIES

July 2024
MTWTFSS
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728
293031 
July 15, 2024

अम्बानी की रिलायंस ने हाई कोर्ट में लगाई अर्जी

4 Jan. Vadodara: कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे विरोध आंदोलन के बीच रिलांयस जियो के मोबाइल टावर टारगेट बनाये जा रहे हैं। इसमें रिलायंस और अदाणी के प्रोडक्ट्स का जमकर विरोध किया जा रहा है। नतीजतन पंजाब में विरोध के चलते रिलायंस जियो के 1500 से अधिक टावर तोड़े जा चुके हैं। इस पर अब कंपनी की ओर से बयान जारी कर कहा गया है कि, “कंपनी का कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग से कोई लेना देना नहीं है। साथ ही कंपनी ने राज्य सरकार से मामले को नोटिस में लेने की भी अपील की है।”

कंपनी ने क्या कहा?

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड, रिलायंस रिटेल लिमिटेड (RRL), रिलायंस जियो इंफोकॉम लिमिटेड (RJIL) और रिलायंस से जुड़ी कोई भी अन्य कंपनी न तो कॉरपोरेट या कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग करती है और न ही करवाती है। और न ही भविष्य में इस बिजनेस में उतरने की कंपनी की कोई प्लानिंग है।

“कॉर्पोरेट” या “कॉन्ट्रैक्ट” खेती के लिए रिलायंस या रिलायंस की सहायक किसी भी कंपनी ने प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से खेती की कोई भी जमीन हरियाणा/पंजाब या तो देश के किसी भी दूसरे हिस्से को नहीं खरीदा है। ऐसा भविष्य में भी करने की हमारी कोई योजना नहीं है।

भारत में संगठित रिटेल कारोबार में रिलायंस रिटेल एक अग्रणी कंपनी है। यह देश में दूसरी कंपनियों, निर्माताओं और आपूर्तिकर्ताओं के विभिन्न ब्रांडों के खाद्य, अनाज, फल, सब्जियां और दैनिक उपयोग की वस्तुएं, परिधान, दवाएं, इलेक्ट्रॉनिक प्रोडक्ट्स सहित सभी कटेगरी के प्रोडक्ट्स को बेचती है। यह किसानों से सीधी खरीद नही करती। किसानों से अनुचित लाभ लेने के लिए कंपनी ने कभी भी लंबी अवधि खरीद कॉन्ट्रैक्ट नहीं किए हैं, और न ही ऐसा कभी होगा।

130 करोड़ भारतीयों का पेट भरने वाले किसान अन्नदाता हैं और उनका हम सम्मान करते हैं। रिलायंस और उसके सहयोगी किसान को समृद्ध और सशक्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इसलिए कंपनी और उसके सहयोगी कड़ी मेहनत और समर्पण के साथ पैदा की गई उनकी उपज का किसानों को उचित और लाभदायक मूल्य मिले इसका पूरा समर्थन करते है। रिलायंस स्थायी आधार पर किसानों की आय में वृद्धि चाहता है, और इस लक्ष्य के लिए काम करने को प्रतिबद्ध है।

रिलायंस ने अपने कॉम्पिटिटर्स पर लगाए आरोप

रिलायंस की ओर से जारी किये गए बयान में कहा गया है कि दोनों राज्यों में कंपनी के मोबाइल टावर में हुई तोड़फोड़ के पीछे प्रतिद्वंदी कंपनियों का भी हाथ है। कंपनी दूरसंचार विभाग में इसकी शिकायत भी कर चुकी है। हालांकि कंपनी ने किसी भी प्रतिद्वंदी कंपनी का नाम नहीं लिया है। लेकिन इस शिकायत के बाद एयरटेल और वोडाफोन आइडिया (Vi) ने इस आरोप को पूरी तरह बेबुनियाद बताया है। इन कंपनियों ने भी इस विषय में दूरसंचार विभाग को चिट्ठी भेजी है।

कंपनी ने यह भी बताया कि देश में उसके कुल 40 करोड़ ग्राहक हैं। इसमें 31 अक्टूबर, 2020 तक जियो के पंजाब में कुल 1 करोड़ 40 लाख (राज्य में लगभग 36% ग्राहक) और हरियाणा में 94 लाख (राज्य में लगभग 34% ग्राहक) हैं। केवल पंजाब में लगभग 9,000 मोबाइल नेटवर्क रिलायंस जियो के हैं।

कंपनी ने हाई कोर्ट में दायर करदी याचिका

कंपनी ने पंजाब और हरियाणा दोनों राज्यों की पुलिस का शुक्रिया करते हुए कहा कि इससे हाल के दिनों में तोड़ फोड़ की घटनाओं में कमी आई है। हालांकि कंपनी ने हाई कोर्ट में अपनी याचिका के तहत उपद्रवियों और निहित स्वार्थी तत्वों के खिलाफ दंडात्मक और निवारक कार्रवाई की मांग की है, जिससे रिलायंस पंजाब और हरियाणा में एक बार फिर से अपने सभी कारोबार को सुचारू रूप से जारी रख सके।